दिन दो बार वर्कआउट करना कितना आसान है जाने फायदे Know how easy it is to do workouts twice a day


दिन दो बार वर्कआउट करना कितना आसान है जाने फायदे Know how easy it is to do workouts twice a day



Fitness को लेकर आजकल लोगों में अलग सा शौक चढ़ा हुआ है, हर कोई जल्द से जल्द अपनी बॉडी को एक फिटनेस वाला लुक देना चाहता है। जिसके लिए ज्यादातर लोग जिम में ज्यादा से ज्यादा समय देते हैं तो कुछ लोग दिन में सुबह-शाम वर्कआउट करते हैं। लेकिन क्या दिन में दो बार वर्कआउट करना आपकी फिटनेस के लिए सही है? आप ही नहीं बल्कि ज्यादातर लोगों के मन में यह रहता है कि वो अगर दिन में दो बार वर्कआउट करेंगे तो शायद उनकी फिटनेस जल्दी बनेगी। लेकिन वर्कआउट के साथ जरूरी है पर्याप्त आराम।

दिन में दो बार वर्कआउट कितना सही?

प्रतिदिन दो बार का लक्ष्य तय करना आपके के स्तर पर निर्भर करता है।
एक्सपर्ट्स का कहना है कि दिन में दो बार वर्कआउट वो लोग कर सकते है, जिनके पास केवल 20 से 30 मिनट का समय वर्कआउट के लिए होता है। वहीं, सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आप ऐसे करके अपना तनाव बढ़ा रहे हैं और मांग करते हैं कि आप अपने शरीर को हर दिन मुश्किल में डाल रहे हैं। यह न केवल दिन-प्रतिदिन, बल्कि वर्कआउट के बीच भी पुनर्प्राप्त करने के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आपका शरीर केवल इतने तनाव को संभाल सकता है, आपकी प्रगति की निगरानी करना जरूरी है और अगर आप दिन में दो बार ऐसी मेहनत करते हैं तो अपनी वसूली की आदतों के बारे में बहुत ध्यान रखें।

किसे हो सकता है ज्यादा फायदा

अगर आप एक लक्ष्य के लिए प्रशिक्षण ले रहे हैं जो सामान्य फिटनेस से ज्यादा उन्नत है - उदाहरण के लिए, एक कम दौड़ का समय, शक्ति प्राप्त करना या उच्च अंत धीरज का निर्माण करना और समय की बड़ी मात्रा को बाहर करने के लिए संघर्ष करना, तो ये आपके लिए दोहरी सूई हो सकती है जो आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

अपने वर्कआउट को कैसे विभाजित करें

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप अपना मुख्य लक्ष्य पहले रखना चाहते हैं (जो कुछ भी हो: कार्डियो, स्ट्रेंथ एक्सरसाइज आदि) ताकि आप अपनी ऊर्जा और प्रयास पर ध्यान केंद्रित कर सकें। फिर आपकी दूसरी कसरत के लिए, वह एक ही समय में दो अलग-अलग जगहों में सुधार करने की कोशिश करने के बजाय उसी मोड के साथ चिपके रहने की सलाह देता है।

मॉनिटरिंग

अपनी फिटनेस को लेकर आपको हमेशा मॉनिटरिंग करने की जरूरत होती है। फिटनेस के साथ-साथ आपको अपनी बॉडी रिकवरी पर नजर रखने की जरूरत होती है। अपनी फिटनेस के साथ आपके शरीर को कितना आराम देना है और कितना उससे काम कराना है ये आपको काफी ध्यान रखने की जरूरत है। ऐसा करने का एक सरल तरीका यह है कि जागने के तुरंत बाद अपनी आराम करने वाली हृदय गति को लगातार मापें ताकि आपके रीडिंग को हर दिन इन परिस्थितियों में लिया जाए। इसके अलावा जैसे-जैसे आपकी फिटनेस का स्तर बढ़ता है, आपकी आराम की हृदय गति धीरे-धीरे समय के साथ नीचे की ओर होनी चाहिए।

दिन में दो बार वर्कआउट को समय देना तेजी से परिणाम देता है या बर्नआउट की ओर जाता है, ये महत्वपूर्ण अंतर कारक वर्कआउट के बीच आपकी रिकवरी को अधिकतम करने की आपकी क्षमता होगी। इसमें आपके भोजन का सेवन और साथ ही नींद शामिल है- अगर आपके पास स्वस्थ आहार रखने के लिए अनुशासन नहीं है और पूरी तरह से ठीक होने के लिए रात में पर्याप्त नींद लें, तो आप सबसे अधिक संभावना है कि आप बाहर जलाएंगे।

Related Posts

दिन दो बार वर्कआउट करना कितना आसान है जाने फायदे Know how easy it is to do workouts twice a day
4/ 5
Oleh